Categories

 

 

Shunya Ke Paar - शून्य के पार

Shunya Ke Paar - शून्य के पार
Views: 982 Brand: Osho Media International
Product Code: Paperback - 108 Pages
Availability: In Stock
2 Product(s) Sold
Rs.240.00
Qty: Add to Cart
शून्य के पार – Shunya Ke Paar
 

 

 

"न तो ज्ञान ले जाएगा, न भक्ति ले जाएगी, न कर्म ले जाएगा। ज्ञान, भक्ति, कर्म तीनों मन के ही खेल हैं।
इन तीनों के पार जो जाएगा—वही अ-मन, नो-माइंड, वही आत्मा, वही परम सत्य उसकी अनुभूति में ले जाता है।

तब मुझसे मत पूछें कि मार्ग क्या है? सब मार्ग मन के हैं। मार्ग छोड़ें, क्योंकि मन छोड़ना है।

कर्म छोड़ें, वह मन की बाहरी परिधि है। विचार छोड़ें, वह मन की बीच की परिधि है। भाव छोड़ें, वह मन की आखिरी परिधि है। तीनों परिधियों को एक साथ छोड़ें। और उसे जान लें, जो तीनों के पार है, दि बियांड। वह जो सदा पीछे खड़ा है, पार खड़ा है, उसे जानते ही वह सब मिल जाता है, जो मिलने योग्य है। उसे जानते ही वह सब जान लिया जाता है, जो जानने योग्य है। उसे मिलने के बाद, मिलने को कुछ शेष नहीं रह जाता। उसे पाने के बाद, पाने को कुछ शेष नहीं रह जाता।"—ओशो

पुस्तक के कुछ मुख्य विषय-बिंदु:

  • धर्म का कोई मार्ग नहीं है, कोई पंथ नहीं है
  • ज्ञान मार्ग नहीं है, ज्ञान एक भटकन है
  • भक्ति: भगवान का स्वप्न-सृजन
  • क्या है शुभ और क्या है अशुभ?
There are no reviews for this product.

Write a review

Your Name:


Your Review:Note: HTML is not translated!

Rating: Bad           Good

Enter the code in the box below:



पुस्तक के बारे मेंSahaj Yog - सहज-योगसिद्धों का एक महान संदेश, ‘जागो’, ओशो की वाणी द्वारा इन प्र..
Rs.700.00
Shiv Sutra In Stock
   पुस्तक के बारे मेंShiv Sutra - शिव-सूत्रइस पुस्तक से: ..
Rs.720.00
कस्तूरी कुंडल बसै – Kasturi Kundal Basai धर्म क्या है? शब्दों में, शास्त्रों में, क्र..
Rs.520.00
पुस्तक के बारे मेंJyon Ki Tyon Dhari Dinhi Chadaria - ज्यों की त्यों धरि दीन्हीं चदरियाइस पुस्त..
Rs.660.00