Categories

 

 

Nahin Sanjh Nahin Bhor - नहीं सांझ नहीं भोर

Nahin Sanjh Nahin Bhor - नहीं सांझ नहीं भोर
Views: 2766 Brand: Osho Media International
Product Code: Hardbound - 348 Pages
Availability: In Stock
8 Product(s) Sold
Rs.500.00
Qty: Add to Cart
नहीं सांझ नहीं भोर - Nahin Sanjh Nahin Bhorचरणदास वाणी पर प्रवचन
 
अब तक दुनिया में दो ही तरह के धर्म रहे हैं--ध्यान के और प्रेम के। और वे दोनों अलग-अलग रहे हैं। इसलिए उनमें बड़ा विवाद रहा। क्योंकि वे बड़े विपरीत हैं। उनकी भाषा ही उलटी है। ध्यान का मार्ग विजय का, संघर्ष का, संकल्प का। प्रेम का मार्ग हार का, पराजय का, समर्पण का। उनमें मेल कैसे हो? इसलिए दुनिया में कभी किसी ने इसकी फिकर नहीं की कि दोनों के बीच मेल भी बिठाया जा सके। मेरा प्रयास यही है कि दोनों में कोई झगड़े की जरूरत नहीं है। एक ही मंदिर में दोनों तरह के लोग हो सकते हैं। उनको भी रास्ता हो, जो नाच कर जाना चाहते हैं। उनको भी रास्ता हो, जो मौन होकर जाना चाहते हैं। अपनी-अपनी रुचि के अनुकूल परमात्मा का रास्ता खोजना चाहिए। 
ओशो

 

There are no reviews for this product.

Write a review

Your Name:


Your Review:Note: HTML is not translated!

Rating: Bad           Good

Enter the code in the box below:



Notes of a Madman Out Of Stock
About Notes of a MadmanOsho creates a loosely woven tapestry of vivid, humorous and touching imp..
Rs.425.00
About,  Zen: Zest, Zip, Zap and ZingLiving the Fire of LifeOsho responds to questions ..
Rs.500.00
About Communism and Zen Fire, Zen WindIn the presence of a TV crew from the USSR, and almost a y..
Rs.450.00
About Vedanta: Seven Steps to Samadhi (Revised Edition)Talks on the Akshi UpanishadThe Upani..
Rs.1,425.00
About The New Alchemy: To Turn You OnInnermost Secrets of ConsciousnessThe New Alchemy: To ..
Rs.500.00