Categories

 

 

Sambhog Se Samadhi Ki Aur

Sambhog Se Samadhi Ki Aur
Views: 1278 Brand: Osho Media International
Product Code: Hardbound - 356 pages
Availability: In Stock
46 Product(s) Sold
Rs.600.00
Qty: Add to Cart

पुस्तक के बारे मेंSambhog Se Samadhi Ki Aur - संभोग से समाधि की ओर

‘जो उस मूलस्रोत को देख लेता है...’ यह बुद्ध का वचन बड़ा अदभुत है: ‘वह अमानुषी रति को उपलब्ध हो जाता है।’ वह ऐसे संभोग को उपलब्ध हो जाता है, जो मनुष्यता के पार है। जिसको मैंने ‘संभोग से समाधि की ओर’ कहा है, उसको ही बुद्ध अमानुषी रति कहते हैं। एक तो रति है मनुष्य की—स्त्री और पुरुष की। क्षण भर को सुख मिलता है। मिलता है?—या आभास होता है कम से कम। फिर एक रति है, जब तुम्हारी चेतना अपने ही मूलस्रोत में गिर जाती है; जब तुम अपने से मिलते हो। एक तो रति है—दूसरे से मिलने की। और एक रति है—अपने से मिलने की। जब तुम्हारा तुमसे ही मिलना होता है, उस क्षण जो महाआनंद होता है, वही समाधि है। संभोग में समाधि की झलक है; समाधि में संभोग की पूर्णता है।
ओशो

विषय सूची

प्रवचन 1 : संभोग : परमात्मा की सृजन-ऊर्जा

प्रवचन 2 : संभोग : अहं-शून्यता की झलक

प्रवचन 3 : संभोग : समय-शून्यता की झलक

प्रवचन 4 : समाधि : अहं-शून्यता, समय-शून्यता का अनुभव

प्रवचन 5 : समाधि : संभोग-ऊर्जा का आध्यात्मिक नियोजन

प्रवचन 6 : यौन : जीवन का ऊर्जा-आयाम

प्रवचन 7 : युवक और यौन

प्रवचन 8 : प्रेम और विवाह

प्रवचन 9 : जनसंख्या विस्फोट

प्रवचन 10 : विद्रोह क्या है

प्रवचन 11 : युवक कौन

प्रवचन 12 : युवा चित्त का जन्म

प्रवचन 13 : नारी और क्रांति

प्रवचन 14 : नारी—एक और आयाम

प्रवचन 15 : सिद्धांत, शास्त्र और वाद से मुक्ति

प्रवचन 16 : भीड़ से, समाज से—दूसरों से मुक्ति

प्रवचन 17 : दमन से मु‍क्ति

प्रवचन 18 : न भोग, न दमन—वरन जागरण
 


There are no reviews for this product.

Write a review

Your Name:


Your Review:Note: HTML is not translated!

Rating: Bad           Good

Enter the code in the box below:



Mahaveer Ya Mahavinash Out Of Stock
पुस्तक के बारे मेंMahavir Ya Mahavinash - महावीर या महाविनाशमहावीर की क्रांति इसी बात में है कि ..
Rs.380.00
Based on 1 reviews.
पुस्तक के बारे मेंDhyan Sutra - ध्यान-सूत्रमहाबलेश्वर के प्राकृतिक वातावरण में ओशो द्वारा संचाल..
Rs.360.00
Based on 1 reviews.
मृत्यु और मृत्यु-पार के रहस्यसजग मृत्यु के प्रयोगनिद्रा, स्वप्न, सम्मोहन व मूर्च्छा के पार —..
Rs.1,000.00
About From Sex to SuperconsciousnessThis small, infamous volume has been a bestseller for decade..
Rs.525.00