Categories

 

 

Gahre Pani Paith

Gahre Pani Paith
Views: 1145 Brand: Osho Media International
Product Code: Hardbound - 152 pages
Availability: In Stock
10 Product(s) Sold
Rs.340.00
Qty: Add to Cart

पुस्तक के बारे मेंGahre Pani Paith - गहरे पानी पैठ

तीर्थ है, मंदिर है, उनका सारा का सारा विज्ञान है। और उस पूरे विज्ञान की अपनी सूत्रबद्ध प्रक्रिया है। एक कदम उठाने से दूसरा कदम उठता है, दूसरा उठाने से तीसरा उठता है, तीसरा से चौथा उठता है और परिणाम होता है। एक भी कदम बीच में खो जाए, एक भी सूत्र बीच में खो जाए, तो परिणाम नहीं होता।

जिन गुप्त तीर्थों की मैं बात कर रहा हूं उनके द्वार हैं, उन तक पहुंचने की व्यवस्थाएं हैं, लेकिन उन सबके आंतरिक सूत्र हैं। इन तीर्थों में ऐसा सारा इंतजाम है कि जिनका उपयोग करके चेतना गतिमान हो सके।
ओशो

पुस्तक के अन्य विषय-बिंदु:
 

मंदिर के आंतरिक अर्थ

तीर्थ: परम की गुह्य यात्रा

तिलक-टीके: तृतीय नेत्र की अभिव्यंजना

मूर्ति-पूजा: मूर्त से अमूर्त की ओर
 

विषय सूची

प्रवचन 1 : मंदिर के आंतरिक अर्थ

प्रवचन 2 : तीर्थ: परम की गुह्य यात्रा

प्रवचन 3 : तिलक-टीके: तृतीय नेत्र की अभिव्यंजना

प्रवचन 4 : मूर्ति-पूजा: मूर्त से अमूर्त की ओर

There are no reviews for this product.

Write a review

Your Name:


Your Review:Note: HTML is not translated!

Rating: Bad           Good

Enter the code in the box below:



पुस्तक के बारे मेंApne Mahin Tatol - अपने माहिं टटोलहम सब आनंद चाहते हैं, हम सब शांति चाहते हैं,..
Rs.300.00
पुस्तक के बारे मेंJin Khoja Tin Paiyan - जिन खोजा तिन पाइयांकुंडलिनी-यात्रा पर ले चलने वाली इस अ..
Rs.1,000.00
पुस्तक के बारे मेंMitti Ke Diye - मिट्टी के दीयेकहानियां सत्य की दूर से आती प्रतिध्वनियां हैं—एक..
Rs.420.00
Based on 2 reviews.
पुस्तक के बारे मेंEk Omkar Satnam - एक ओंकार सतनामनानक-वाणी पर ओशो के प्रवचनों ने कुछ ऐसी चीजों ..
Rs.800.00
" रैदास कहते हैं: मैंने तो एक ही प्रार्थना जानी—जिस दिन मैंने ‘मैं’ और ‘मेरा’ छोड़ दिया। वही बंदगी है..
Rs.740.00