Categories

 

 

Piv Piv Lagi Pyas

-28% Out Of Stock Piv Piv Lagi Pyas
Views: 137 Brand: Osho Media International
Product Code: Paperback - 252 pages
Availability: Out Of Stock
6 Product(s) Sold
This Offer Expires In:
Rs.600.00 Rs.430.00
Qty: Add to Cart

मन चित चातक ज्यूं रटै, पिव पिव लागी प्यास। शिष्यत्व का अर्थ है: झुकने की तैयारी। दीक्षा का अर्थ है: अब मैं झुका ही रहूंगा। वह एक स्थायी भाव है। ऐसा नहीं है कि तुम कभी झुके और कभी नहीं झुके। शिष्यत्व का अर्थ है, अब मैं झुका ही रहूंगा; अब तुम्हारी मर्जी। जब चाहो बरसना, तुम मुझे गैर-झुका न पाओगे।

Details

1: गैब मांहि गुरुदेव मिल्या
2: जिज्ञासा पूर्ति एक
3: राम नाम निज औषधि
4: जिज्ञासा-पूर्ति दो
5: सबदै ही सब उपजै
6: जिज्ञासा-पूर्ति तीन
7: ल्यौ लागी तब जाणियै
8: जिज्ञासा-पूर्ति चार
9: मन चित चातक ज्यूं रटै
10: जिज्ञासा-पूर्ति पांच

 

गुरु भी जो देता है, वह प्रसाद है। उसके पास बहुत है। उसे परमात्मा मिल गया है। वह बांटना चाहता है। वस्तुतः वह बोझिल है। जैसे बादल पानी से भरे हों और बोझिल हैं। और चाहते हैं कि कोई भूमि मिल जाए, जहां बरस जाएं। कोई अतृप्त, प्यासी भूमि मिल जाए, जो उन्हें स्वीकार कर ले। जैसे दीया जलता है, तो चारों तरफ रोशनी बिखरनी शुरू हो जाती है--बंटना शुरू हो गया। फूल सुगंधित होता है, कली खिलती है, हवाएं उसकी गंध को लेकर दूर दिगंत में निकल जाती हैं--बांटना शुरू हो गया। जब भी तुम्हारे पास कुछ होता है, तो तुम बांटना चाहते हो। सिर्फ वे ही पकड़ते हैं और कंजूस होते हैं, जिनके पास कुछ भी नहीं है। इसे भी तुम ठीक से समझ लो। क्योंकि यह बात थोड़ी पहेली सी मालूम पड़ेगी। मैं कहता हूं, जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे ही केवल पकड़ते हैं और कंजूस होते हैं। और जिनके पास कुछ है, वे कभी कृपण नहीं होते और कभी नहीं पकड़ते। क्योंकि जिनके पास कुछ है, वे यह भी जानते हैं कि बांटने से बढ़ता है। जिनके पास कुछ नहीं है, वे डरते हैं क्योंकि बांटने से घटेगा। गुरु तुम्हें देता है इसलिए नहीं कि तुमने साधना से, श्रम से योग्यता पा ली है, नहीं, गुरु तुम्हें देता है क्योंकि तुम्हारी आंखों में आंसू हैं। गुरु तुम्हें देता है क्योंकि तुम्हारे हृदय में प्यास है। गुरु तुम्हें देता है क्योंकि तुम्हारी श्वास-श्वास में एक खोज है। बस, इतना काफी है। तुम पात्र हो क्योंकि तुम खाली हो। पात्रता के कारण तुम पात्र नहीं हो। यह पात्र शब्द बड़ा अच्छा है। उसी से पात्रता शब्द बनता है। पात्रता से हम अर्थ लेते हैं, योग्यता; लेकिन अगर ठीक से समझो तो पात्र का इतना ही मतलब होता है, जो खाली है, जो भरने को राजी है। कोई अगर भरे, तो वह बाधा न डालेगा। बस, पात्र का इतना ही अर्थ होता है। धर्म के जगत में इतनी ही पात्रता है कि तुम खाली हृदय को लेकर खड़े हो जाओ; गुरु का प्रसाद तुम्हें भर देगा। ...पाया हम परसाद। मस्तक मेरे कर धर्‌या देखा अगम अगाध। —ओशो

There are no reviews for this product.

Write a review

Your Name:


Your Review:Note: HTML is not translated!

Rating: Bad           Good

Enter the code in the box below:



About Vedanta: Seven Steps to Samadhi (Revised Edition)Talks on the Akshi UpanishadThe Upani..
Rs.1,425.00
Kathopanishad -25%
पुस्तक के बारे मेंKathopanishad - कठोपनिषदमृत्यु, जिसे हम जीवन का अंत समझते हैं, उसी की चर्चा से..
Rs.1,000.00 Rs.750.00
Jyon Ki Tyon Dhar Deenhi Chadariya In Stock
पुस्तक के बारे मेंJyon Ki Tyon Dhari Dinhi Chadaria - ज्यों की त्यों धरि दीन्हीं चदरियाइस पुस्त..
Rs.440.00