Categories

 

 

Mahaveer Ya Mahavinash

Out Of Stock Mahaveer Ya Mahavinash
Views: 8574 Brand: Osho Media International
Product Code: Paperback - 224 pages
Availability: Out Of Stock
23 Product(s) Sold
Rs.380.00
Qty: Add to Cart

पुस्तक के बारे मेंMahavir Ya Mahavinash - महावीर या महाविनाश

महावीर की क्रांति इसी बात में है कि वे कहते हैं कोई हाथ ऐसा नहीं है जो तुम्हें आगे बढ़ाए। और किसी काल्पनिक हाथ की प्रतीक्षा में जीवन को व्यय मत कर देना। कोई सहारा नहीं है सिवाय उसके, जो तुम्हारे भीतर है और तुम हो। कोई और सुरक्षा नहीं है, कोई और हाथ नहीं है जो तुम्हें उठा लेगा, सिवाय उस शक्ति के जो तुम्हारे भीतर है, अगर तुम उसे उठा लो। महावीर ने समस्त सहारे तोड़ दिए। महावीर ने समस्त सहारों की धारणा तोड़ दी। और व्यक्ति को पहली दफा उसकी परम गरिमा में और महिमा में स्थापित किया है। और यह मान लिया है कि व्यक्ति अपने ही भीतर इतना समर्थ है, इतना शक्तिवान है कि यदि अपनी समस्त बिखरी हुई शक्तियों को इकट्ठा करे और अपने समस्त सोए हुए चैतन्य को जगाए, तो अपनी परिपूर्ण चेतन और जागरण की अवस्था में वह स्वयं परमात्मा हो जाता है।
ओशो

विषय सूची

प्रवचन 1 : मानवीय गरिमा के उदघोषक
प्रवचन 2 : अंतर्दृष्टि की पतवार
प्रवचन 3 : आत्म-दर्शन की साधना
प्रवचन 4 : स्वरूप में प्रतिष्ठा
प्रवचन 5 : व्यक्ति है परमात्मा
प्रवचन 6 : असुत्ता मुनि
प्रवचन 7 : अंतस-जीवन की एक झलक
प्रवचन 8 : जीवन-चर्या के तीन सूत्र
प्रवचन 9 : सत्य का अनुसंधान
प्रवचन 10 : अहिंसा : आचरण नहीं, अनुभव है
प्रवचन 11 : अहिंसा-दर्शन

उद्धरण : महावीर या महाविनाश - पहला प्रवचन - मानवीय गरिमा के उदघोषक
"महावीर के इस जन्म-दिवस पर पहली बात आपसे यह कहूं कि आप सिर्फ इस कारण महावीर के प्रति अपने को श्रद्धा से भरे हुए मत समझ लेना कि आपका जन्म जैन घर में हुआ है।

धर्म बपौती नहीं है और किसी को वंशक्रम से नहीं मिलता।
धर्म प्रत्येक व्यक्ति की निजी उपलब्धि है और अपनी साधना से मिलता है।

इस समय सारी जमीन जिस भूल में पड़ी है, वह भूल यह है कि हम उस धर्म को, जिसे कि चेष्टा से, साधना से, प्रयास से उपलब्ध करना होगा, उसे हम पैदाइश से उपलब्ध मान लेते हैं! इससे बड़ा धोखा नहीं हो सकता। और जो आपको यह धोखा देता है, वह आपका दुश्मन है। जो आपको इसलिए जैन कहता हो कि आप जैन घर में पैदा हुए, वह आपका दुश्मन है, क्योंकि वह आपको ठीक अर्थों में जैन होने से रोक रहा है। इसके पहले कि आप ठीक अर्थों में जैन हो सकें, आप गलत अर्थों में जो जैन हैं, उसे छोड़ देना होगा। इसके पहले कि कोई सत्य को पा सके, जो असत्य उसके मन में बैठा हुआ है, उसे अलग कर देना होगा।

तो यह तो मैं आपके संबंध में कहूं कि आप अपने संबंध में यह निश्चित समझ लें कि अगर आपका प्रेम और श्रद्धा केवल इसलिए है, तो वह श्रद्धा झूठी है। और झूठी श्रद्धा मनुष्य को कहीं भी नहीं ले जाती। झूठी श्रद्धा भटकाती है, पहुंचाती नहीं है। झूठी श्रद्धा चलाती है, लेकिन किसी मंजिल को निकट नहीं लाने देती है। झूठी श्रद्धा अनंत चक्कर है। और सच्ची श्रद्धा एक ही छलांग में कहीं पहुंचा देती है।

तो आपकी झूठी श्रद्धा छूटे। आपका यह खयाल मिट जाना चाहिए कि खून से और पैदाइश से मैं धार्मिक हो सकता हूं। धार्मिक होना अंतस-चेतना के परिवर्तन से होता है।"—ओशो


 
NITIN PATNI on 19/08/2013
1 reviews
I M AGREE WITH OSHO ON THIS STATMENT BECOUSE HE WAS THE FIRY PHILOSFER OF THE WORLD. THERE IS NO ANY TOPIC EXIST WHICH HE HAD NOT COMMENTED BY HIM.

Write a review

Your Name:


Your Review:Note: HTML is not translated!

Rating: Bad           Good

Enter the code in the box below:



About From Sex to SuperconsciousnessThis small, infamous volume has been a bestseller for decade..
Rs.425.00
And Now and Here Out Of Stock
About And Now and HereBeyond the Duality of Life and DeathMost of us look for security in ou..
Rs.1,125.00
About Above All, Don’t WobbleIndividual Meetings with a Contemporary MysticAn extraordinary ..
Rs.900.00